Tuesday, June 8, 2010

गम में लिखे मैंने गीत

उछला-कूदा खुशी में –हरदम-
गम में लिखे मैंने गीत
पा जगत का प्यार एक दिन
मन था फूला न समाया
मैं मदमाता फिर रहा था
 तू अचानक पास आया
छूने को बढ़े जब हाथ मेरे
तू तोड़ चला मेरी भावुक प्रीत
उछला-कूदा खुशी में –हरदम-
गम में लिखे मैंने गीत
मधु- मौसम था मन में छाया
कोयल की कूक से मन भरमाया
मैं पुष्प-सा खिल रहा था
तू भँवरे -सा पास आया
सोचा साथी तुझे बनाऊँगा
तू मिटाकर तृष्णा अपनी
राह गया विपरीत
उछला-कूदा खुशी में –हरदम-
गम में लिखे मैंने गीत
सुर-छंद-ताल सब सजे
था वाद्य मन- वीणा का बजा
तेरे आने की खुशी में
मैंने थी महफिल सजाई
राग-बेराग हो गया सब
जब छोड़ चला मझधार में
सभा और संगीत
उछला-कूदा खुशी में –हरदम-
गम में लिखे मैंने गीत

7 comments:

  1. बेशक बहुत सुन्दर लिखा और सचित्र रचना ने उसको और खूबसूरत बना दिया है.

    ReplyDelete
  2. दिल के सुंदर एहसास
    हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

    ReplyDelete
  3. गम में लिखे मैंने गीत

    bahut badiya, prastuti

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है
    बड़े काम की चीज है मोबाइल .....!
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2010/06/blog-post_06.html

    मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है
    सभी ब्लोगेर साथियों का तहे दिल से शुक्रिया .संजय रहेगा सदा कर्जदार आपका।
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2010/06/blog-post.html

    ReplyDelete
  5. कभी कोशिश कीजिए खुशी में भी लिख लेंगें। लेखन के लिए एक आवेग चाहिए चाहे वह खुशी का हो या गम का।

    ReplyDelete
  6. गम में ही सही पर बहुत अच्छा लिखा है..

    ReplyDelete

मेरा काव्य संग्रह

मेरा काव्य संग्रह

Blog Archive

There was an error in this gadget
Text selection Lock by Hindi Blog Tips

about me

My photo
मुझे फूलों से प्यार है, तितलियों, रंगों, हरियाली और इन शॉर्ट उस सब से प्यार है जिसे हम प्रकृति कहते हैं।