Friday, June 11, 2010

स्वाति बूँद

पीयूषवर्णी मेघ ने
द्रवित हो
एक बूँद टपकाई सहसा
कदली, सीप और भुजंग ने
तुरंत अपना
मुँह खोला
लेकिन
बूँद की कोई और मर्जी
वह गिरी
साँवली गोरी के
उत्तुंग वक्ष पर-
गोरी सिहर कर लरज गई,
गंध कपूर की
मोती की शुभ्रता
और जहर-सी तीव्रता, तीक्ष्णता
उस बूँद ने पाई
और हो गई सार्थक.....
विधाता की माया अजब.....
स्वाति नक्षत्र हुआ कृतार्थ।

4 comments:

  1. sunda bhaav....shringaar samo diya aapne to...r

    ReplyDelete
  2. साँवली गोरी के
    उत्तुंग वक्ष पर-
    गंध कपूर की
    मोती की शुभ्रता

    क्या कह दिया आप ने !

    चित्र अनावश्यक लगा। कविता के प्रभाव और अनुभूति को तनु करता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. abhivyakti, expression is reflection of writer, you have expressed the freedom of nature. Drop of arcturous is innocent God gives an opportunity to every living things.

      Delete

मेरा काव्य संग्रह

मेरा काव्य संग्रह

Blog Archive

There was an error in this gadget
Text selection Lock by Hindi Blog Tips

about me

My photo
मुझे फूलों से प्यार है, तितलियों, रंगों, हरियाली और इन शॉर्ट उस सब से प्यार है जिसे हम प्रकृति कहते हैं।