Saturday, March 5, 2011

देवदार से झरती बर्फ

देवदार की पर्णहीन टहनियों से
बर्फबारी रूकने के बाद
झरती बरसती है
फूलों-सी बर्फ
जैसे गिरते हैं
बसंत से पहले
पत्ते इमली के
झर-झर-झर
थोड़ी-सी धूप
क्षणिक बसंत ले आती है
मनाली के पहाड़ पर......

8 comments:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत चित्रण |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  3. झरती बर्फ के बीच थोड़ी-सी बर्फ बसंत का संकेत देती है ...
    सुन्दर प्रकृति चित्रण !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर शब्द चित्र...बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  6. शब्दों से दृश्य खींच दिया है .... बहुत लाजवाब ..

    ReplyDelete

मेरा काव्य संग्रह

मेरा काव्य संग्रह

Blog Archive

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

about me

My photo
मुझे फूलों से प्यार है, तितलियों, रंगों, हरियाली और इन शॉर्ट उस सब से प्यार है जिसे हम प्रकृति कहते हैं।